Pixel code

What is Democracy Meaning in Hindi

लोकतंत्र (loktantra) is the Hindi word for democracy. It is a political system in which the people choose their government by voting for them in elections.

Democracy is based on the principles of equality, liberty, and justice. It is a system of government in which the people have the power to make decisions about how their country is run.

Here are some of the key features of democracy:

  • Universal suffrage: All adult citizens have the right to vote in elections.
  • Regular elections: Elections are held regularly so that the people can choose their representatives and hold them accountable.
  • Multiple parties: There are multiple political parties that the people can vote for.
  • Freedom of expression: The people have the right to express their opinions freely.
  • Rule of law: Everyone is subject to the same laws, including the government.

Democracy is the most common form of government in the world today. It is practiced in over 100 countries.

Here is an example of how the word “democracy” is used in a Hindi sentence:

  • भारत एक लोकतांत्रिक देश है। (India is a democratic country.)
Democrac

What is democracy short question?

लोकतंत्र क्या है? (Loktantra kya hai?)

लोकतंत्र एक ऐसी शासन व्यवस्था है जिसमें जनता का शासन होता है। जनता अपने प्रतिनिधियों को चुनती है और वे प्रतिनिधि जनता की ओर से शासन चलाते हैं। लोकतंत्र में सभी नागरिकों को समान अधिकार होते हैं और सभी को अपनी राय व्यक्त करने का अधिकार होता है।

लोकतंत्र के कुछ प्रमुख सिद्धांत हैं:

  • समानता (Equality): सभी नागरिक समान हैं और सभी को समान अधिकार हैं।
  • स्वतंत्रता (Liberty): सभी नागरिकों को अपनी राय व्यक्त करने, अपनी पसंद के अनुसार जीने और अपने प्रतिनिधियों को चुनने की स्वतंत्रता होती है।
  • न्याय (Justice): सभी नागरिकों के साथ न्यायपूर्ण व्यवहार किया जाता है और सभी कानून के सामने समान हैं।

लोकतंत्र दुनिया में सबसे लोकप्रिय शासन व्यवस्था है। आजकल दुनिया के 100 से अधिक देशों में लोकतंत्र का शासन है।

लोकतंत्र का संक्षिप्त उत्तर:

लोकतंत्र एक ऐसी शासन व्यवस्था है जिसमें जनता का शासन होता है और सभी नागरिकों को समान अधिकार होते हैं।

What is democracy in simple words in hindi?

लोकतंत्र (loktantra) एक ऐसी शासन व्यवस्था है जिसमें जनता का शासन होता है। जनता अपने प्रतिनिधियों को चुनती है और वे प्रतिनिधि जनता की ओर से शासन चलाते हैं। लोकतंत्र में सभी नागरिकों को समान अधिकार होते हैं और सभी को अपनी राय व्यक्त करने का अधिकार होता है।

लोकतंत्र को सरल शब्दों में समझाएं तो यह एक ऐसी व्यवस्था है जिसमें जनता यह तय कर सकती है कि उनका देश कैसे चले। इस व्यवस्था में सभी नागरिकों के पास अपनी राय व्यक्त करने और अपने नेताओं को चुनने का समान अधिकार होता है।

लोकतंत्र के कुछ प्रमुख सिद्धांत हैं:

  • समानता: सभी नागरिक समान हैं और सभी के पास समान अधिकार हैं।
  • स्वतंत्रता: सभी नागरिकों को अपने विचार व्यक्त करने, अपनी पसंद के अनुसार जीने और अपने नेताओं को चुनने की स्वतंत्रता होती है।
  • न्याय: सभी नागरिकों के साथ न्यायपूर्ण व्यवहार किया जाता है और सभी कानून के सामने समान हैं।

लोकतंत्र दुनिया में सबसे लोकप्रिय शासन व्यवस्था है। आजकल दुनिया के 100 से अधिक देशों में लोकतंत्र का शासन है।

प्रजातंत्र का दूसरा नाम क्या है?

लोकतंत्र (loktantra) एक ऐसी शासन व्यवस्था है जिसमें जनता का शासन होता है। जनता अपने प्रतिनिधियों को चुनती है और वे प्रतिनिधि जनता की ओर से शासन चलाते हैं। लोकतंत्र में सभी नागरिकों को समान अधिकार होते हैं और सभी को अपनी राय व्यक्त करने का अधिकार होता है।

लोकतंत्र को सरल शब्दों में समझाएं तो यह एक ऐसी व्यवस्था है जिसमें जनता यह तय कर सकती है कि उनका देश कैसे चले। इस व्यवस्था में सभी नागरिकों के पास अपनी राय व्यक्त करने और अपने नेताओं को चुनने का समान अधिकार होता है।

लोकतंत्र के कुछ प्रमुख सिद्धांत हैं:

  • समानता: सभी नागरिक समान हैं और सभी के पास समान अधिकार हैं।
  • स्वतंत्रता: सभी नागरिकों को अपने विचार व्यक्त करने, अपनी पसंद के अनुसार जीने और अपने नेताओं को चुनने की स्वतंत्रता होती है।
  • न्याय: सभी नागरिकों के साथ न्यायपूर्ण व्यवहार किया जाता है और सभी कानून के सामने समान हैं।

लोकतंत्र दुनिया में सबसे लोकप्रिय शासन व्यवस्था है। आजकल दुनिया के 100 से अधिक देशों में लोकतंत्र का शासन है।

प्रजातंत्र की स्थापना कब हुई?

प्रजातंत्र की स्थापना की कोई एक निर्दिष्ट तारीख नहीं है। यह एक ऐसी अवधारणा है जो सदियों से विकसित हुई है।

प्राचीन ग्रीस में, लोकतंत्र के शुरुआती रूप विकसित हुए। एथेंस में, नागरिकों को अपने प्रतिनिधियों को चुनने का अधिकार था। हालांकि, केवल पुरुष नागरिकों को वोट देने का अधिकार था।

मध्य युग में, लोकतंत्र का अभ्यास कम हुआ। अधिकांश देशों में राजतंत्र या कुलीनता का शासन था।

18वीं शताब्दी में, अमेरिकी क्रांति और फ्रांसीसी क्रांति ने लोकतंत्र के लिए एक नई भावना को जन्म दिया। इन क्रांतियों ने समानता और स्वतंत्रता के सिद्धांतों को बढ़ावा दिया।

19वीं और 20वीं शताब्दी में, लोकतंत्र दुनिया भर में फैल गया। कई देशों ने मताधिकार का विस्तार किया और लोकतांत्रिक संस्थानों को स्थापित किया।

आज, लोकतंत्र दुनिया में सबसे आम शासन व्यवस्था है। 100 से अधिक देशों में लोकतंत्र का शासन है।

भारत में, लोकतंत्र की स्थापना 1947 में हुई थी। भारत एक संसदीय लोकतंत्र है, जिसमें नागरिकों को अपने प्रतिनिधियों को चुनने का अधिकार है।

तो, प्रजातंत्र की स्थापना की कोई एक निर्दिष्ट तारीख नहीं है। यह एक ऐसी अवधारणा है जो सदियों से विकसित हुई है।

आधुनिक प्रजातंत्र का आधार क्या है?

आधुनिक प्रजातंत्र का आधार समानता, स्वतंत्रता, और न्याय के सिद्धांतों पर आधारित है। इन सिद्धांतों को लोकतंत्र के तीन स्तंभ के रूप में भी जाना जाता है।

  • समानता: सभी नागरिक समान हैं और सभी के पास समान अधिकार हैं। इसका अर्थ है कि सभी नागरिकों को कानून के सामने समान माना जाता है, भले ही उनकी जाति, धर्म, लिंग, या सामाजिक आर्थिक स्थिति कुछ भी हो।
  • स्वतंत्रता: सभी नागरिकों को अपनी राय व्यक्त करने, अपनी पसंद के अनुसार जीने, और अपने प्रतिनिधियों को चुनने की स्वतंत्रता होती है। इसका अर्थ है कि सभी नागरिकों को अपने विचारों और आलोचनाओं को व्यक्त करने, अपनी पसंद के अनुसार धर्म या विश्वास रखने, और अपने प्रतिनिधियों को चुनने का अधिकार है।
  • न्याय: सभी नागरिकों के साथ न्यायपूर्ण व्यवहार किया जाता है और सभी कानून के सामने समान हैं। इसका अर्थ है कि सभी नागरिकों को समान रूप से कानून का पालन करना होता है, और सभी को समान अधिकारों और अवसरों का आनंद मिलता है।

आधुनिक प्रजातंत्र में इन सिद्धांतों को लागू करने के लिए विभिन्न संस्थानों और प्रणालियों का उपयोग किया जाता है। इनमें शामिल हैं:

  • चुनाव: चुनाव एक ऐसी प्रक्रिया है जिसके द्वारा नागरिक अपने प्रतिनिधियों को चुनते हैं। चुनावों के माध्यम से, नागरिक अपने सरकारों को जवाबदेह ठहरा सकते हैं और सुनिश्चित कर सकते हैं कि उनकी आवाज सुनी जाती है।
  • संविधान: संविधान एक कानूनी दस्तावेज है जो एक देश के मूल कानूनों और सिद्धांतों को निर्धारित करता है। संविधान लोकतंत्र के सिद्धांतों को सुनिश्चित करने और नागरिकों के अधिकारों की रक्षा करने में मदद करता है।
  • न्यायपालिका: न्यायपालिका एक स्वतंत्र संस्था है जो कानूनों का व्याख्या और लागू करती है। न्यायपालिका यह सुनिश्चित करने में मदद करती है कि सभी नागरिकों के साथ समान रूप से कानून का पालन किया जाए।
  • अधिकार क्षेत्र: अधिकार क्षेत्र एक ऐसी प्रणाली है जो सरकार के विभिन्न अंगों के बीच शक्तियों को विभाजित करती है। अधिकार क्षेत्र यह सुनिश्चित करने में मदद करता है कि कोई भी व्यक्ति या संस्था बहुत अधिक शक्ति न जमा कर सके।

आधुनिक प्रजातंत्र एक जटिल प्रणाली है जो इन सिद्धांतों और संस्थानों पर आधारित है। इन सिद्धांतों और संस्थानों को लागू करने के लिए निरंतर प्रयास और प्रतिबद्धता की आवश्यकता होती है ताकि लोकतंत्र मजबूत और स्थिर बना रहे।

Most Popular Links